उत्तराखंड

उत्तराखंड वन महकमे के लिए कैसा रहा साल 2023? इन दो विवादों ने खूब बटोरी सुर्खियां

उत्तराखंड वन विभाग ने साल 2023 में दो सीनियर आईएफएस अधिकारियों के बीच पद की लड़ाई देखा. जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क में अवैध निर्माण का मामला भी खूब गूंजा.

 साल 2023 कुछ दिनों बाद विदाई लेने को तैयार है. 1 जनवरी को पूरी दुनिया नए साल 2024 का स्वागत करेगी. 2023 का साल उत्तराखंड वन महकमे के लिए ठीक नहीं रहा. अधिकारियों की सार्वजनिक लड़ाई से वन महकमा ने सुर्खियां बटोरी. वन महकमा पर सीबीआई जांच के बादल भी मंडराते रहे. नैनीताल हाईकोर्ट के आदेश पर जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क में अवैध निर्माण की सीबीआई जांच शुरू हुई. एक आईएफएस अधिकारी को जेल तक जाना पड़ा.

वन महकमा के लिए बदनामी भरा रहा 2023

उत्तराखंड वन विभाग का मुखिया बनने के लिए दो सीनियर आईएफएस अधिकारी लड़ते हुए दिखाई दिए. दो सीनियर आईएफएस की लड़ाई से वन महकमे की खूबर किरकरी हुई. मामला हाईकोर्ट से होते हुए सुप्रीम कोर्ट तक पहुंचा. पूर्व प्रमुख वन संरक्षक राजीव भरतरी और पूर्व प्रमुख संरक्षक विनोद कुमार सिंघल के बीच की रस्साकशी वन महकमे को देखनी पड़ी. दोनों अधिकारी वन विभाग का हेड बनने के लिए लड़ाई लड़ते रहे. मुख्य वन संरक्षक के पद से राजीव भरतरी को हटाकर विनोद कुमार सिंघल को जिम्मेदारी सौंपी गई.

दो आईएफएस की लड़ाई ने बटोरी सुर्खियां

राजीव भरतरी ने नैनीताल हाईकोर्ट में फैसले को चुनौती दी. लड़ाई में राजीव भरतरी को जीत मिली. दोबारा मुख्य वन संरक्षक बनाए जाने पर सरकार ने राजीव भरतरी के पर कतर दिए. राजीव भरतरी के कई अधिकारों पर कैंची सरकार ने चला दी. उन्होंने रिटायरमेंट के आखिरी समय में कुछ रेंजरों के तबादले किए थे. सरकार ने रेंजरों के तबादले को भी रोक दिया. वित्त से जुड़ी शक्तियों पर रोक लगने के बाद राजीव भरतरी रिटायर हो गए. उत्तराखंड फॉरेस्ट डिपार्टमेंट के लिए काला अध्याय जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क में हुआ अवैध निर्माण बनकर सामने आया.

जिम कॉर्बेट पार्क में अवैध निर्माण की गूंज

शुरू में अवैध निर्माण की जांच का फैसला सरकार ने विजिलेंस से कराने का लिया. विजिलेंस ने कई लोगों के खिलाफ मुकदमा भी दर्ज किया. जांच के बीच एक याचिकाकर्ता नैनीताल हाईकोर्ट पहुंच गया. याचिका पर सुनवाई करते हुए नैनीताल हाईकोर्ट ने मामले में सीबीआई जांच के आदेश दे दिए. इससे पहले विजिलेंस एक आईएफएस किशन चंद और एक रेंज अधिकारी को जेल भेज चुकी थी. कई अधिकारियों के खिलाफ मामले की जांच जारी है. पूर्व कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत तक भी आंच पहुंची.

विजिलेंस ने हरक सिंह रावत के ठिकानों पर छापेमारी की. हरक सिंह रावत के स्कूल और होटल से दो जनरेटर बरामद हुए. बताया गया कि वन महकमा का जनरेटर था. फिलहाल मामले की सीबीआई जांच कर रही है. उत्तराखंड के जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क को कई रुकावटों का सामना करना पड़ा. प्रधानमंत्री के ड्रीम प्रोजेक्ट रेस्क्यू सेंटर को अभी सैद्धांतिक मंजूरी नहीं मिल पाई है. कोटद्वार में बनने वाली पाखरो टाइगर सफारी पर भी रोक लगी है. कुल मिलाकर 2023 उत्तराखंड वन महकमा के लिए बदनामी भरा रहा.

Related Articles

Back to top button